सिनेमा

संजय राउत के बयान पर भड़कीं अभिनेत्री कंगना, बोलीं- किसी के बाप का नहीं है महाराष्ट्र

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और शिवसेना के नेता संजय राउत के बीच जुबानी जंग चल रही है.

फिल्म जगत: बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और शिवसेना के नेता संजय राउत के बीच जुबानी जंग चल रही है. हाल ही में कंगना ने कहा था कि उन्हें मुंबई पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर जैसा लग रहा है. इसके बाद शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि कंगना रनौत महाराष्ट्र का अपमान करने की कोशिश कर रही हैं. शिवसेना के बयान पर कंगना राउत ने पलटवार करते हुए कहा कि महाराष्ट्र किसी के बाप का नहीं है.

अभिनेत्री कंगना रनौत ने ट्वीट कर कहा कि इनकी औक़ात नहीं है. इंडस्ट्री के सौ सालों में एक भी फ़िल्म मराठा प्राइड पे बनाई हो. मैंने इस्लाम डॉमिनेट इंडस्ट्री में अपनी जान और करीयर को दांव पे लगाया. शिवाजी महाराज और रानी लक्ष्मीबाई पे फ़िल्म बनाई. आज महाराष्ट्र के इन ठेकेदारों से पूछो क्या किया है महाराष्ट्र के लिए? कंगना ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा कि किसी के बाप का महाराष्ट्र नहीं है. महाराष्ट्र उसी का है जिसने मराठी गौरव को प्रतिष्ठित किया है. मैं डंके की चोट पे कहती हूँ, हां मैं मराठा हूं,उखाड़ो मेरा क्या उखाड़ोगे?

आपको बता दें कि संजय राउत ने कहा था कि आप ( कंगना रनौत) महाराष्ट्र का अपमान करने की कोशिश कर रही हैं. कोई राजनीतिक दल या शक्ति केंद्र है जो उनका समर्थन कर रही है, इसलिए वो ऐसा बोल रही हैं. मुंबई और मुंबई पुलिस की छवि खराब करने के लिए एक साजिश रची जा रही है.

वहीं, कंगना ने कहा कि मैं देख रही हूं कई लोग मुझे मुंबई वापस न आने की धमकी दे रहे हैं इसलिए मैंने तय किया है कि 9 सितंबर को मुंबई आऊंगी. मैं मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंचकर टाइम पोस्ट करूंगी, किसी के बाप में हिम्मत है तो रोक ले.’

वहीं, दूसरी ओर, कंगना के इस ट्वीट पर पलटवार करते हुए संजय राउत ने कहा कि मैं उनके ट्वीट पर कुछ नहीं कहूंगा और न ही उन जैसी भाषा का इस्तेमाल करूंगा. मैं महिला का सम्मान करता हूं. कंगना ने मुंबई पुलिस का अपमान किया है, पुलिस को लेकर जो टिप्पणी की थी वह गलत है. जिस तरह की बातें सामने आ रही हैं, ये तो मेंटल केस है.’

संजय राउत ने आगे कहा कि अगर उसे (कंगना) लगता है कि मुंबई पुलिस उसकी सुरक्षा नहीं कर सकती है तो मुंबई में उसकी सुरक्षा करने के लिए हिमाचल की पुलिस तो नहीं आएगी इससे अच्छा है वह हिमाचल में ही रहे. या फिर उन्हें पीओके भेज देना चाहिए.

Leave a Reply

संबंधित समाचार

Back to top button